What is Backlinks In Hindi? 2020

बैकलिंक्स क्या होता है और बैकलिंक्स कैसे बनाएं?

What is Backlinks In Hindi? : अगर आप एक ब्लागर हैं तो आप SEO के बारे में तो जानते ही होंगे अगर आप SEO करने के लिए आपने बैकलिंक (BackLink) अच्छी तरह नहीं बनाया है तो Off Page SEO हो आप अच्छे से नहीं कर सकते हैं Off Page Seo करने के लिए आपको बैकलिंक्स की बहुत जरूरी होती है.

बैकलिंक्स SEO के लिए बहुत महत्वपूर्ण है जो आपके साइट को सर्च इंजन (Search Engine) में रैंकिंग (Ranking) में बहुत हेल्प करता है जिसकी सहायता से आपका वेबसाइट अच्छे पोजीशन (Position) पर Rank करता है.
आज हम इस आर्टिकल (Article) में जानेंगे कि बैकलिंक्स क्या होता है (What is BackLinks?) और बैकलिंक्स कैसे बनाते हैं (How to Create Backlinks?)अगर आप बैकलिंक्स के बारे में पूरी जानकारी चाहते हैं तो इस आर्टिकल को अच्छे से पढ़े और बैकलिंक्स के बारे में पूरी जानकारी को देखें जिसकी सहायता से आप अपनी वेबसाइट को अच्छे पोजीशन पे अच्छी तरह Rank करा सकते हैं।

अगर आपके पास कोई ब्लॉग (Blog) या वेबसाइट (Website) है तो उसे आप मशहूर करना चाहते हैं तो उसमें से एक तरीका SEO है SEO में ब्लॉग आपका जल्दी से रैंक (Rank) करता है और अच्छे पोजिशन पर रहे करता है और उनमें से एक फैक्टर (Factor) बैकलिंक्स का भी है अगर आपके वेबसाइट पर अच्छे खासे बैकलिंक्स बने हुए हैं तो आपका वेबसाइट अच्छे पोजीशन पर सर्च इंजन (Search Engine) में रैंक करता है बैकलिंक्स कैसे बनाते हैं और यह कितने प्रकार के होते हैं (Types Of Backlinks?) आज हम इस आर्टिकल में पूरी जानकारी आपको देने का कोशिश करेंगे अगर आप बैकलिंक्स के बारे में पूरी जानकारी चाहते हैं तो इस आर्टिकल को अच्छे से पढ़ें जिसे आप बैकलिंक्स के बारे में पूरी जानकारी जान सकते हैं।

बैकलिंक्स क्या है? (What is Backlinks in Hindi?)

बैकलिंक्स एक ऐसा लिंक होता है जिसकी मदद से दूसरे विजिटर (Visitor) आपके वेबसाइट तक पहुंच जाने का एक रास्ता या जरिया होता है बैकलिंक्स मतलब दूसरे के वेब पेज (Web Page) पर आपके वेब पेज का लिंक जुड़ा हुआ होता है तो हम उसे बैकलिंक्स कहते हैं।

Simple : बैकलिंक्स का सिंपल मतलब यह है कि आपके वेबसाइट का लिंक किसी दूसरे यानी जाने पहचाने और अच्छे वाले वेबसाइट पर आपका लिंक हो जिसकी मदद से आप के वेबसाइट तक उस वेबसाइट के विजिटर आपकी वेबसाइट तक पहुंचे और अच्छे खासे विजिटर आपके वेबसाइट तक आए उसमें उस लिंक को हम लोग बैकलिंक्स कहते हैं सिंपल में दूसरे के वेबसाइट पर आपका लिंक उसे बैकलिंक्स कहा जाता है।।

बैकलिंक्स की मदद से आप के वेबसाइट पर अच्छे खासे विजिटर (Visitor) आ सकते हैं और आपके वेबसाइट सर्च इंजन में अच्छे पोजीशन पर Rank कर सकता है बैकलिंक्स के और भी बहुत सारे फायदे हैं जिसे आप बैकलिंक्स बनाकर उठा सकते हैं।।।

बैकलिंक्स किस तरह के होते है?

वैसे तो बैकलिंक्स बहुत तरह के होते हैं लेकिन आपको मेन बैक लिंक नीचे दिए गए पॉइंट वाइज (Point Wise) बनाना चाहिए जिसकी मदद से आप का वेबसाइट अच्छे जगह पोजीशन पर रैंक करें और आपके वेबसाइट पर अच्छे खासे विजिटर और आपके ट्रैफिक बड़े।

backlink kya hai hindi 2020
What is Backlinks In Hindi? 2020

1. Low Quality Backlinks :

बैकलिंक्स को लो क्वालिटी बैकलिंक्स (Kow Quality BackLinks) तब कहा जाता है जब आप किसी गलत साइड या स्पामी साइट (Spammy Site) से अपने वेबसाइट पर ट्रैफिक ला रहे हो और वह वेबसाइट उतना ज्यादा बढ़िया नहीं हो और आप उस वेबसाइट से विजिटर ले रहे हो उस लिंग को हम लोग लो क्वालिटी बैकलिंक्स कहते हैं , आपको अपने बैटरी से बनाने के लिए अच्छे से अच्छे वेबसाइट और बढ़िया वेबसाइट पर ही बैकलिंक्स बनाना चाहिए जिससे आपका बैकलिंक्स भी मजबूत रहेगा और आपके Site का ट्रैफिक भी अच्छे खासे बनते रहेंगे।

2. High Quality Backlinks :

हाई क्वालिटी बैकलिंक्स उसे कहते हैं जो किसी हाई अथॉरिटी वेबसाइट (HIGH Authority Website) या किसी बढ़िया वेबसाइट जो गूगल (Google) के नजर में अच्छा माना जाता हो और जिसका डोमेन रेटिंग (Domain Rating) अच्छा हो वहां से आप अगर बैकलिंक्स बनाते हैं तो आपका बैकलिंक्स हाई क्वालिटी बैकलिंक्स माना जाता है हाई क्वालिटी बैकलिंक्स (High Quality Backlinks) आपके SEO और रैंकिंग में बहुत मदद करता है जिसकी मदद से आप अच्छे खासे ट्रैफिक और अच्छे खासे अर्निंग कर सकते हैं तो आपको हमेशा अच्छे खासे बैकलिंक्स और हाई क्वालिटी बैकलिंक्स बनाना चाहिए।

3. INTERNAL Links :

इंटरनल लिंक आप नाम से ही समझ गए होंगे कि इंटरनल लिंक का मतलब क्या होता है , आपको अपनी वेबसाइट पर इंटरनल लिंक (Interlinking) जरूर करना चाहिए जिसकी मदद से आपका कोई पोस्ट (Blog Post) या आर्टिकल (Article) गूगल में अच्छे पोजीशन पर रैंक करें तो आपके इंटरनल लिंक के मदद से आपका बैकलिंक्स अच्छी तरह मजबूत हो सके जिसकी मदद से आप के एक आर्टिकल से दूसरे आर्टिकल तक आपके विजिटर आसानी से बैकलिंक्स की मदद से पहुंच सकें जिसे हम लोग इंटरनल लिंकिंग या इंटरनल लिंक भी कहते हैं।

Simple में : अपने साइट पर है अपने किसी पुराने आर्टिकल को इंटरलिंक करते हैं उसे हम लोग इंटरलिंकिंग बैकलिंक्स कहते हैं।

4. Link Juice :

लिंक जूस भी एक बैकलिंक्स का एक Factor है, लिंक जूस का मतलब आपके वेबसाइट का आर्टिकल का लिंक (Article Link) या होम पेज का लिंक (Home Page Link) किसी दूसरे अच्छे वेबसाइट पर हैं जहां से आप के विजिटर उसे फॉलो (Follow) करके आपके वेबसाइट तक पहुंच रहे हैं उसे हम लिंक जूस के नाम से जानते हैं लिंक जूस आपके आर्टिकल को Rank कराने में बहुत मदद करता है और आपके वेबसाइट का डोमेन अथॉरिटी (Domain Authority) को बेहतर बनाने के लिए सबसे बेहतर तरीका है ।

यहां तक हमने बैकलिंक्स की क्वालिटी और बैकलिंक्स कितने तरह के होते हैं जान चुके और बैकलिंक्स के टर्म कंडीशन(Term Condition) को जान चुके हैं अब आगे देखते हैं।

Apni Website kaise Banaye 2020 , Hindi Me.

बैकलिंक्स कितने प्रकार के होते हैं? ( Type OF Backlinks in Hindi)

टेक्नोलॉजी के नजर से देखा जाए तो बैकलिंक्स सिर्फ दो प्रकार के होते हैं।

1. DO FOLLOW BACKLINKS.
2. NO FOLLOW BACKLINKS.

1. Do Follow Backlinks :

हमने आपको ऊपर लिंक जूस (Link Juice) के बारे में बताया है Do Follow BackLinks लिंक जूस की तरह होता है जो आपके वेबसाइट का लिंक किसी दूसरे वेबसाइट पर आपके वेबसाइट तक जाने का रास्ता बनाता है उसे Do Follow BackLinks कहते हैं.
वैसे तो देखा जाए तो दूसरे वेबसाइट पे या ब्लॉग पोस्ट में दिए जाने वाले लिंक को डुप्लो बैकलिंक्स ( Do Follow BackLinks ) होता है।

डुप्लो बैकलिंक्स के मदद से आप का वेबसाइट का रैंकिंग को सर्च इंजन में बढ़ाने में बहुत मदद करता है और यह आपके ब्लॉग के लिए बहुत फायदेमंद होता है डुप्लो बैकलिंक्स कुछ इस तरह दिखाए जाते हैं।

  • <a href=”आपकीसाइट.Com”>Link Text </a>

2. No Follow Backlinks :

नो फॉलो बैकलिंक्स आपको नाम से पता चल गया होगा कि इसमें फॉलो नहीं किया जा सकता यह लिंक जूस (Link Juice) की तरह नहीं होता है , नो फॉलो बैकलिंक्स (No Follow BackLinks) की मदद से आपके वेबसाइट तक कोई भी विजिटर डायरेक्टली (Directly) नहीं पहुंच सकता जिसे हम लोग नो फॉलो बैकलिंक्स कहते हैं। नो फॉलो बैकलिंक्स सर्च इंजन (Search Engine) में कोई भी फायदा नहीं कराता है और नो फॉलो बैकलिंक्स से मदद से रैंकिंग में भी कोई काम नहीं आता है।

नो फॉलो बैकलिंक्स के भी कुछ हद तक फायदे हो सकते हैं जैसे आपके प्रोफाइल लिंक (Profile Link) को नेचुरल (Netural) बना देता है अगर आपका वेबसाइट पर सारा बैकलिंक्स Do Follow BackLinks रहेगा तो गूगल को आपके वेबसाइट नेचुरल नहीं लगेगा और आपको वेबसाइट को Penalise भी कर सकता है।
No Follow बैकलिंक्स कुछ इस तरह दिखाए जाते हैं।

  • <a href=”आपकीसाइट.Com” Rel=”nofollow”>Link Text</a>

वेबसाइट के लिए बैकलिंक्स कैसे बनाएं? (How to Create Backlinks for Website?)

अगर आप एक नए ब्लॉगर (Blogger) हैं तो आपको बैकलिंक्स कैसे बनाए जाते हैं इसके बारे में नीचे बताएंगे लेकिन आपको बैकलिंक्स बनाने के बहुत सारे तरीके पता होंगे लेकिन नीचे बताए गए बैकलिंक्स बनाने का तरीका बहुत इंपोर्टेंट (Important) है और इससे आपको वेबसाइट को बहुत मदद मिलेगी सर्च इंजन (Search Engine) में रैंकिंग करने के लिए , वैसे तो बैकलिंक्स बनाने के लिए कोई सीमा (Limit) नहीं है बैकलिंक्स आप जहां से बना सकते हैं वहां से बनाएं और आपको ध्यान रखने वाली बात यह है कि आपको हाई क्वालिटी बैकलिंक्स (High Quality BackLinks) बनाना चाहिए जिसकी मदद से आप की वेबसाइट का एक गूगल में अच्छा इमेज बने और आपके वेबसाइट अच्छे तरीके से गूगल में रैंक करें।

1. Quality Content :

आपको अपनी वेबसाइट पर अच्छे से अच्छे क्वालिटी कंटेंट (Quality Content) लिखना चाहिए अगर आपके अच्छे से अच्छे क्वालिटी कंटेंट आपके वेबसाइट पर मौजूद है तो दूसरे वेबसाइट के Author आपके वेबसाइट का बैकलिंक्स जरूर देंगे आपको इस पर सबसे ज्यादा ध्यान देने वाली बात है कि आपको अपनी वेबसाइट पर सबसे बढ़िया और यूनिक और हाई क्वालिटी कंटेंट लिखना चाहिए जो लोगों को पसंद आए और अच्छा लगे।

2. Guest Post :

आपको अपने वेबसाइट के लिए बैकलिंक्स के लिए दूसरे वेबसाइट पर गेस्ट पोस्टिंग (Guest Posting) करना चाहिए आप अगर दूसरे वेबसाइट के लिए गेस्ट पोस्ट लिख सकते हैं तो उस वेबसाइट के Author आपका बैकलिंक्स अपने साइट पर जरूर देंगे आप उनसे गेस्ट पोस्टिंग के लिए डील कर सकते हैं और बोल सकते हैं कि हमारे वेबसाइट के इस आर्टिकल के लिए आपके वेबसाइट पर बैकलिंक्स चाहिए जिसके लिए हम आपको गेस्ट पोस्ट करना चाहते हैं ।
गेस्ट पोस्टिंग सबसे बढ़िया और बेहतर तरीका है बैकलिंक्स बनाने का गेस्ट पोस्टिंग से आपको दो फॉलो बैकलिंक्स मिलता है जो आपके रैंकिंग और ट्रैफिक (Traffic) लाने के लिए बहुत अच्छा तरीका है।

3. Comment :

कॉमेंट आपको नाम से ही पता चल गया होगा आपको दूसरे अच्छे वेबसाइट पर डुप्लो (Do Follow) या नो फॉलो बैकलिंक्स (No Follow BackLinks) के लिए कमेंटिंग (Commenting) करना जरूरी है आपके बहुत सारे वेबसाइट पर देख सकते हैं कि आप डायरेक्ट (Direct) कमेंट कर सकते हैं जिसकी मदद से आप अच्छे खासे ट्रैफिक और विजिटर ले सकते हैं कमेंटिंग में आपको अच्छे से अच्छे बातें लिखनी चाहिए जो लोगों को अपनी तरफ आकर्षित करें और आपके कमेंट में आपको बैकलिंक्स अच्छे से बनाना चाहिए
बहुत सारे वेबसाइट में कमेंट डायरेक्ट सबमिट नहीं होता है लेकिन इंटरनेट की दुनिया में बहुत सारे वेबसाइट जो अच्छे पोजीशन पर हैं उसमें आप डायरेक्ट कमेंट कर सकते हैं और अपने वेबसाइट का डायरेक्ट लिंक देकर सबमिट (Submit) कर सकते हैं।

Top 5 Video Editing Apps 2020.

क्या सिखे ?

What is Backlinks In Hindi? Conclusion : आज हमने बैकलिंक्स की पूरी जानकारी को जाने चुके हैं और बैकलिंक्स क्या होता है (What is Backlinks In Hindi?) और बैकलिंक्स कैसे बनाते हैं (How to Create Backlinks In Hindi?) इसके बारे में आज हम जान चुके हैं और बैकलिंक्स क्यों जरूरी है? (Why Backlinks Important?) और सारी बातें हम इसके बारे में जान चुके हैं तो अपनी वेबसाइट के लिए अच्छे से अच्छे क्वालिटी का बैकलिंक्स बनाइए और अपनी साइट को सर्च इंजन (Search Engine) में अच्छी पोजीशन (Position) पर रैंक (Rank) कराइए।

बैकलिंक्स क्या है , और बैकलिंक्स कैसे बनाएं ? अगर आपको यह आर्टिकल (ARTICLE) अच्छा लगा तो नीचे कमेंट (COMMENT) करना ना भूलें और हमारे वेबसाइट (Website) पर टेक्निकल (Technical) और कमाई (Earning) के रिलेटेड (Related) और भी आर्टिकल लिखे हुए हैं जिन्हें आप पढ़ सकते हैं तब तक के लिए BYE :

Instagram Se Paisa Kaise Kamaye? : CLICK HERE

Google Pay Se Paisa Kaise Kamaye? : CLICK HERE

Leave a Comment