ON PAGE SEO KYA HAI? Hindi Me.

ON PAGE SEO KYA HAI? Aur Isse Kaise Karte Hai?।

ON PAGE SEO KYA HAI? Hindi Me. :क्या आप एक ब्लॉगर हैं तो आपको एस यू के बारे में अच्छी खासी जानकारी होगी अगर आपको SEO के बारे में कुछ जानकारी है तो आप यह भी जानते हैं कि on page seo & off Page seo क्या होता है।
आज हम इस आर्टिकल (Article) में ON PAGE SEO के बारे में जानेंगे अगर आप अपनी वेबसाइट (Website) के लिए on page SEO करना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को आप ध्यान से पढ़े और अपने साइट पर On Page SEO करके अपने साईट (Site) के ट्रैफिक बढ़ाएं।

आगे चलने से पहले हम लोग इस आर्टिकल में on page SEO क्या है और ऑन पेज एस सी ओ कैसे करते हैं और ऑन पेज एस सी ओ से क्या होता है इसके बारे में पूरी जानकारी हम इस आर्टिकल में पढेंगे।

ऑन पेज एस सी ओ क्या है? (What is ON Page SEO?)

ON Page SEO, SEO का एक ऐसा हथियार है जो आप अपने द्वारा कर सकते हैं और अपने साइट पर अच्छे खासे ट्रैफिक (Traffic) और रैंकिंग (Ranking) को बढ़ा सकते हैं ऑन पेज एस सी ओ करने से आपको अपने साइट के ट्रैफिक, साइट कि लोडिंग टाइम (Loading Time) और साइट का रैंकिंग बढ़ाने में बहुत मदद करते हैं।
ऑन पेज एस सी ओ को ऑन साइट एस सी ओ (On site SEO) भी कहा जाता है और इसमें बहुत सारे कंपोनेंट्स (Components) मिले हुए होते हैं, ऑन पेज एस सी ओ के सहायता से आप अपनी वेबसाइट को सही तरीके से ऑप्टिमाइज (Optimized) सकते हैं इसमें आपको सबसे ज्यादा अपने साइट पर लोडिंग टाइम (Loading Time) और साइट की डिजाइन ( Site Design) पर सबसे ज्यादा ध्यान देना चाहिए जिससे आपके साइट को सर्च रिजल्ट (Search Result) में आने में जल्दी हो सके।

ऑन पेज एस सी ओ करने के लिए बहुत सारे Factor होते हैं जो आपके द्वारा ही कंट्रोल (Control ) किया जाता है और अपने साइट को इंटरफेसिंग (Interfacing) बनाने के लिए आपको एचटीएमएल कोडिंग , कंटेंट , ऑप्टिमाइजेशन का नॉलेज (Knowledge) होना चाहिए।

ON PAGE SEO करने से आपको कोई भी नई यूजर (User) आपके साइट पर ज्यादा से ज्यादा समय (Time) बिताता है और इंटरेक्शन (Interaction) और इंगेजमेंट (Engagement) ज्यादा होती है जिससे आपके साइट के रैंकिंग में बूस्ट (Boost) हो जाता है और आपके साइट पर ट्रैफिक ज्यादा से ज्यादा आने लगता है।

ON Page SEO कैसे करे? (How to Do On Page SEO?)

ON PAGE SEO करने के लिए आपको वह सभी ऑनसाइट वर्किंग (ON SITE WORKING) पर ध्यान देना चाहिए जिन्हें आप अपने आप से इंप्लीमेंट (Implement) कर सकते हैं और अपने वेब पेजेस (WEB Pages) को कम से कम लोडिंग टाइम में रैंक करा सकते हैं।


On page seo करने के लिए आपको कंटेंट (Content) और टेक्निकल एलिमेंट (Technical Elements) का बहुत ज्यादा इस्तेमाल करना होगा. और अपने पेज की क्वालिटी (Quality) को इंप्रूव (Improved) करना होगा आपके पेज की क्वालिटी जितने बढ़िया ढंग से आप ON Page SEO करेंगे आपका वेबसाइट उतना ज्यादा रिफ्लेक्टेड ट्रैफिक (Reflected Traffic) लाएगा।

On Page Seo Techniques?

1. टाइटल टैग (Tittle Tags)।
2. हेडिंग (Heading)।
3. यूआरएल स्ट्रक्चर (URL Structure)।
4. ऑल टेक्स्ट फॉर इमेज (Alt Text Image)।
5. साइट स्पीड (Site Speed)।
6. साइड डिजाइन (Site Design)।
7. इंटरनल लिंक (Internal Links)।
8. मेटा डिस्क्रिप्शन (Meta Descriptions )।
9. रेस्पोंसीवे थीम (Responsive Theme)।।।

ON PAGE SEO KYA HAI? Hindi Me.

ON PAGE SEO Overview?

1. Tittle Tags: टाइटल टैग उस एचटीएमएल कोडिंग (HTML Coding) को कहा जाता है जिसके इस्तेमाल से आप अपनी वेबसाइट को नाम देने के लिए और सर्च इंजन (Search Engine) में दिखाने के लिए बनाया गया एक एचटीएमएल टाइटल टैग होता हैं

आपको अपने साइड के लिए टाइटल टैग यूनिक (Unique) और रेस्पॉन्सिव (Responsive) रखना चाहिए और साथ में अपने वेबसाइट के पेज (Page) के विषय में उस में जानकारी देनी चाहिए और कीवर्ड और ऑप्टिमाइजेशन के लिए कीवर्ड लेंथ 60 कैरेक्टर (Keyword Length 60 Characters) के भीतर ही रखना चाहिए।।

2. Heading : हेडिंग उस टाइटल को कहा जाता है जो आप अपने कांटेक्ट में सबसे बड़ा और टाइटल देते हैं उसे हम लोग हेडिंग कहते हैं हेडिंग के बेहतर रिजल्ट के लिए आप H1 फॉर्मेट (H1 Format) को ही लेना चाहिए हेडिंग हमेशा ही रिलेवेंट (Relevent) और डिक्रिप्टेड (Discriptive) शब्दों को ही फोकस (Focus) करना चाहिए।

आप हेडिंग के जरिए अपने छोटे से छोटे कंटेंट को भी अलग-अलग हिस्सों में बांट सकते हैं जैसे कि आप H2 से लेकर H6 तक (H2 To H6) का इस्तेमाल करके अपने कंटेंट के पैराग्राफ (Paragraph) को अच्छे से बांट सकते हैं जोकि आपका आर्टिकल अच्छे तरीके से देखने में लगता है।।

3. URL STRUCTURE : वेबसाइट के लिए URL STRUCTURE बहुत ही ज्यादा इंपोर्टेंट(Important) होता है जो कि सर्च इंजन को यह डिटरमाइंड (Determine) करता है कि आपका पेज कितना ज्यादा इंपोर्टेंट है और इसकी क्यूरी (Query) में कितना ज्यादा फायदा है यूआरएल स्ट्रक्चर आपके पेज के सब्जेक्ट के हिसाब से रखना चाहिए और अपना पेज का यूआरएल को भी ऑप्टिमाइज (Optimized) करना चाहिए जो कि वर्ड के साथ साथ और आर्टिकल के साथ रिलेवेंट हो।।

जैसे कि हमारे वेबसाइट का यूआरएल यह है : https://www.techkijankari.com

ON PAGE SEO KYA HAI? Hindi Me Puri Jankari.

4. SITE SPEED :Site Speed , On Page SEO का बहुत बड़ा Factor होता है जो कि आपके साइट के लिए बहुत इंपोर्टेंट है साइट स्पीड होने से आपको आपके यूजर को ज्यादा पसंद आएगा और आपके यूजर आपके साइट से ज्यादा इंटरेक्शन होंगे।

एक सर्वे के अनुसार, 47% लोग 3 से 4 सेकंड के भीतर जो साइट खुलता है उसमें जाते हैं और 40% लोग 4 सेकंड के बाद वहां से चले जाते हैं अगर आपका साइट Slow होगा तो आपके विजिटर आपके साइट तक पहुंची नहीं पाएंगे।

On Page SEO करके आप अपने साइट के स्पीड (Site Speed) या पेज लोड स्पीड (Page Load Speed) को जरूर बढ़ाए जिससे आपकी साइट की रैंकिंग भी इंप्रूव (Improve) होगा ।।

5. Internal Links : आप अपने साइट पर इंटरलिंकिंग (InterLinking) जरूर करें अगर आपका साइट में एक भी इंटरलिंकिंग नहीं रहता है तो जो भी विजिटर आएंगे आपके पोस्ट पर उसी पेज से वापस चले जाएंगे इंटरलिंकिंग से आपके साइड का बैकलिंक्स अच्छे से बन जाता है जो कि ऑन पेज होता है।

अगर आपका एक आर्टिकल (Article) में अपने साइट के पुराने आर्टिकल को इंटरलिंकिंग (Interlinking) किए होते हैं तो आपको र्च इंजन (Search Engine) के मदद से भी आपके साइट पर ट्रैफिक आता है और आपके साइट पर एक पेज से दूसरे पेज तक सब कटेगरी (Sub Category) के द्वारा इंटरलिंक बैक (InterLink Back) होता है और उससे आपको अच्छे खासे ट्रैफिक मिलते हैं।।

On Page SEO क्यों जरूरी है?

ज्यादातर ब्लॉगर ऑन पेज seo के बजाय ऑफ पेज seo के तरफ भागते हैं लेकिन अगर आपके साइट पर ON PAGE SEO नहीं होता है और आपने अच्छे से OFF PAGE SEO किया होता है तो उससे आपको कोई फायदा नहीं होने वाला है.

OFF PAGE SEO Full Information Hindi Me?👇👇👇

OFF Page SEO Kya hai? Aur Kaise Kare?

ऑन पेज ऑप्टिमाइजेशन (On page Optimization) के लिए आपको सबसे ज्यादा मेहनत के वर्ड (Keyword) पर देना चाहिए ON Page SEO के साथ-साथ आपको बहुत सारे चीज को इंप्लीमेंट (Implements ) करने की बहुत जरूरी होता है।

1. कीवर्ड ( Keyword )।
2. कॉपीराइट ( Copyright )।
3. मीडिया ( Media ) ।
4. लिंक ( Link )।
5. यूजर एक्सपीरियंस ( User Experience ) ।
6. कन्वर्सेशन (Conversation)।।।

ऊपर दिए गए सारे बातों को आप अगर अच्छे से इंप्रूव ( Improve) कर लेते हैं तो आपका साइट कुछ ही महीनों (Month) में गूगल के टॉप सर्च रिजल्ट (Top Search Result) में आने लगेगा और आपके साइट पर अच्छे खासे ट्रैफिक (Traffic) भी जनरेट होने लगेंगे।||

👇SEO Full Information Hindi Me?👇👇

SEO Kya Hai Aur SEO Kaise Kare?

On Page SEO क्या है और इसे कैसे करते हैं अगर आपको यह आर्टिकल (ARTICLE) अच्छा लगा तो नीचे कमेंट (COMMENT) करना ना भूलें और हमारे वेबसाइट (Website) पर टेक्निकल (Technical) और कमाई (Earning) के रिलेटेड (Related) और भी आर्टिकल लिखे हुए हैं जिन्हें आप पढ़ सकते हैं तब तक के लिए BYE:

Leave a Comment